कोरोना वायरस की सेंपलिंग में नाम, पता व दूरभाष नम्बर की जानकारी सही-सही दें- कलेक्टर

Last Updated on

मो.शब्बीर ब्यूरो चीफ शहडोल

शहडोल 10 अगस्त 2020- कलेक्टर एवं मजिस्ट्रेट डाँ. सतेन्द्र सिंह ने कहा है कि वैष्विक आपदा कोेरोना वायरस संक्रमण (कोविड-19) के तीव्र गति से प्रकोप बढ़ने के कारण जिला प्रषासन एवं स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा व्यापक स्तर पर लोगो की स्क्रीनिंग एवं सेंपलिंग का कार्य किया जा रहा है। सेम्पलिंग की जांच के पष्चात उसके परिणाम आने पर संबंधित व्यक्ति से तत्काल सम्पर्क किया जाकर उन्हें क्वरेनटाइन अथवा आइसोलेषन की कार्यवाही करनी पड़ती है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा यह बात ध्यान मंे लाई गई है कि सेम्पलिंग कराने वाले व्यक्तियों द्वारा अपने पता एवं मोबाइल नम्बर सही नही दर्ज कराएं जाते जिस कारण उनसे तत्काल सम्पर्क करने मंे काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है।
कलेक्टर ने कहा कि है कि कोरोना वायरस के सेम्पल देने वाले हर व्यक्ति यह सुनिष्चित करें कि उनके दूरभाष, पता और मोबाइल नम्बर एक दम सही होने चाहिए। जिससे उन्हें तत्काल आइसोलेट अथवा क्वरेनटाइन कराकर उनके सम्पर्क मंे आएं लोगो के बारे मंे भी जानकारी एकत्रित किया जा सके। ऐसा नही पाये जाने पर अथवा गलत पते एवं दूरभाष नम्बर पाये जाने पर उन व्यक्तियों के विरूद्ध भारत सरकार की गाइड लाइन के अनुरूप कार्यवाही किये जाने के लिए वाध्य होना पड़ेगा, जिसके लिए ऐसे व्यक्ति स्वयं जिम्मेवार होंगे। उन्होंने कहा है कि अपनी जानकारी छुपाना तथा अन्य लोगो से सम्पर्क कर कोरोना वायरस संक्रमण को बढ़ाना राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के अनुरूप अपराध की श्रेणी भी आता है तथा दंड़नीय भी है। वही दुसरी ओर आमलोगो तथा अन्य अंजान व्यक्तियों मंे भी कोरोना संक्रमण बढ़ने से खतरा बढ़ने की भी संभावना बनी रहती है। जो कि मानवीय दृष्टिकोण से भी उचित नही है। कलेक्टर ने कहा है कि स्वयं की सुरक्षा और दूसरे लोगो को संक्रमण से बचाने हेतु उक्त सही जानकारी जानकारी देना नितांत आवष्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *