बिजली बनाने का कीर्तिमान के बाद आग, अब होगा करोड़ो के मेंटीनेंस के नाम पर गोलमाल

अनूपपुर( अविरल गौतम )चचाईअमरकंटक थर्मल प्लांट चचाई की यूनिट को आनन फानन में ओवरहालिंग के नाम पर बन्द करने की क्या बन रही योजना , कम खर्च में जल्द सुधर सकने वाली यूनिट पर,करोड़ो खर्च का हो सकता है खेल …..

अमरकंटक ताप बिजली घर चचाई में 16 जून को प्रातः 10.10 मिनट पर अचानक आग लगने की अप्रत्याशित घटना के बाद तुरन्त ही यूनिट से बिजली उत्पादन बन्द कर आग पर नियंत्रण पाया गया।

दुर्घटना का कारण चौथी मंजिल पर एमसीआर के बगल में आयल पाइप लाइन में अचानक छिद्र हो जाने से आयल तीव्र प्रेशर के साथ निकल कर आसपास में लगे बिजली के बोर्ड और खुले तारों केसंपर्क में आ जाने से आग लगने की दुर्घटना घटित होने का अनुमान है ,आग लगने से केबिलो रबर , गैस्केट पैकिंग आदि जो ज्वलनशील समान में तेजी से लगी , जिसमे हुई क्षति का आंकलन किया जा रहा है , इसी के साथ यह भी चर्चा है कि मुख्यालय में बैठे कतिपय उच्चाधिकारी ने लीपापोती करने के लिए ,इस यूनिट को जो प्रदेश की सबसे बेहतर यूनिट है जिसने 15 जून 2021 को 150 दिनों तक लगातार चलने और 97 % से ज्यादा बिजली बनाने का कीर्तिमान बनाया , को ओवरहालिंग के नाम पर कई हफ़्तों बन्द करने की मंशा चर्चित है। जबकि इसमें हुए थोड़े बहुत नुकसान में केबिल रबर गास्केट आदि बदल कर दो चार दिनो मे पुनः बिजली उत्पादन कम खर्च पर शुरू हो सकता है।

परन्तु ओवर हालिंग के नाम कर करोड़ों का अनावश्यक खर्च कर पैसों की बर्बादी की बिसात फैलाने की जोरदार चर्चा प्लांट में हो रही है। जैसा संत सिंगाजी प्लांट की 660 मेगावाट की यूनिट में HP टरबाईन ब्लेड 05 अगस्त 2020 से यूनिट आज तक 10 महिनों से ठप्प है एनुअल ओवर हालिंग के नाम पर दिखलाया जा रहा है।

उसी तर्ज पर ओवर हालिंग के नाम पर यूनिट बन्द कर करोडो रु की बरबादी और बन्दरबांट से नकारा नही जा सकता !!!

इस पर सरकार को सतर्क और पूरी नज़र रखना प्रदेश और जनहित में अत्यावश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *