श्रीमती ब्लूरानी 19 साल से बारिश में नदी-नाला पार कर, कर रही टीकाकरण : बच्चों के चेहरे पर मुस्कान देखकर भूल जाती है अपनी तकलीफ

 बच्चों के चेहरे पर मुस्कान देखकर भूल जाती है अपनी तकलीफ

नारायणपुर- 12 जुलाई 2019राज्य सरकार जहां आदिवासियों की अच्छी स्वास्थ्य सुविधा शिक्षा और सामाजिक-आर्थिक उन्नति के लिए काम कर रही है। तो वहीं धुर नक्सल प्रभावित अबूझमाड़ क्षेत्र नारायणपुर जिले की कठिन भौगोलिक एवं विपरीत, विषम परिस्थितियों में जिला स्वास्थ्य अमले के लोग भी पीछे नहीं है। बारिश में उफनते नदी-नालों को पार कर गर्भवती महिलाओं, बच्चों को समय पर टीकाकरण कर अपने दायित्वों का बखूबी निवर्हन कर रहे है। यह बातें बताने या कहने की नहीं चित्र सब बातें बयां करते है। श्रीमती ब्लूरानी बैरागी पिछले 19 सालों से नारायणपुर और ओरछा विकासखंड के सात गांव झारावाही, हतलानार, घूमा, पीटेकल, कोडनार, अलवर (पहाड़ पर है) और कुमनार में लगभग 1100 से ज्यादा आबादी के स्वास्थ्य का ध्यान रखती है। श्रीमती बैरागी ने कुकुर नदी पार कर बच्चों को रोटा वायरस और गर्भवती महिलाओं को हतलानार पहुंचकर टीकाकरण और गर्भवती महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य की जांच की। इसके अलावा वे 6 गांव के बीच में पड़ने वाले नालों को भी पार कर बच्चों, गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण और उनके स्वास्थ्य की जांच करती है। श्रीमती बैरागी को भारी बारिश में नदी-नाले में ज्यादा पानी होने पर गांव मेें नहीं पहुंचने का मलाल रहता है।


श्रीमती ब्लूरानी बैरागी ने बताया कि चारों से घिरे घने-जंगलों, पहाड़ों, पथरीले और ऊबड़-खाबड़ रास्तों को पार कर आना-जाना कराना पड़ता है। बारिश के मौसम में यहां की स्थिति भयावह हो जाती है। उन्होंने बताया कि सभी मौसम में कई किलोमीटर पदैल ही सफर करना पड़ता है। बरसात में पैदल दूरी अधिक हो जाती है। लेकिन बच्चों और गर्भवती महिलाओं के समय पर खुराक और टीकाकरण करने पर हमें बहुत सुकून मिलता है। उनके चेहरे पर मुस्कान देखकर हम अपनी तकलीफ भूल जाते है। भारी बारिष के दौरान ग्रामीणों के स्वास्थ्य की जांच के लिए नहीं पहुंच पाने का दुख रहता है। कई बार नदी पार करने के बाद भारी बारिश के बीच नदी-नालों में ज्यादा पानी आ जाने के कारण दो-तीन दिनों तक वहीं नदी पार गांव में रूकना पड़ता है। लेकिन गांव वाले के प्यार और स्नेह के कारण वक्त का पता नहीं चलता ।
जिला स्वास्थ्य विभाग की रूरल हेल्थ आॅगनाइजर (आर.एच.ओ.) फीमेल नर्स श्रीमती ब्लूरानी बैरागी, और (आर.एच.ओ.) पुरूष मेल श्री अरविंद त्रिपाठी और मितानिन ट्रेनर सुश्री अश्विनी कुकुर नदी को पार कर अपने कर्तव्य स्थल तक पहुंचें। जहां उन्होंने छोटे बच्चों को रोटा वायरस की खुराक दी। साथ ही गर्भवती महिलाओं को समय पर लगाये जाने वाले टीकाकरण किया। बच्चों को विटामिन ए की भी खुराक पिलायी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *