सफलता की कहानी रंजना सिंह के जीवन में ग्रामीण आजीविका मिशन योजना बनी वरदान

Last Updated on

मो.शब्बीर ब्यूरो चीफ शहडोल

शहडोल 9 जुलाई 2020- विकासखण्ड सोहापुर जिला शहडोल के ग्राम कल्याणपुर निवासी श्रीमती रंजना सिंह एक गरीब परिवार से थी, संगम स्व सहायता समूह से जुड़ने के पहले उनके पति द्वारा ही घर का खर्च चलता था, बर्ष 2014 से समूह से जुडने के बाद समूह से छोटे-छोटे ऋण ली, परन्तु वर्ष 2016 में एक सडक दुर्घटना मे उनके पति की मृत्यु हो गई। श्रीमती रंजना सिंह के पति की मृत्यु के बाद उनके सामने अंधेरा छा गया और उन्हें कुछ भी समझ में नही आ रहा था। श्रीमती रंजना सिंह को संगम स्व सहायता समूह की बैठक मे समूहो की महिला सदस्यो ने स्व सहायता समूह से 30000 रू. का समूह से ऋण लेने की सलाह दी और दुकाने खोलने की सलाह दी । श्रीमती रंजना सिंह ने शौर्य किराना के नाम से जनरल स्टोर शुरू की जिससे उन्हें कुछ ही समय मे अच्छी आय होने लगी।
रंजना सिहं को वर्ष 2016 से गतिविधि के लिये प्रेरित किया गया। गतिविधि संचालन हेतु समूह के चक्रीय कोष की राशि सी0आई0एफ0 की राषि से किराना एवं जनरल स्टोर की दुकान गतिविधिय चलाने के लिये प्रेरित किया गया। जिससे श्रीमती रंजना सिंह की आय में वृद्धि हुई और आर्थिक स्थिति ऊँची उठती गई। आज श्रीमती रंजना सिंह ने समाज में एक अलग पहचान बनी और आज वह अपने परिवार के साथ बहुत खुश है। श्रीमती रंजना सिंह ग्रामीण आजीविका मिशन को एक वरदान स्वरूप मानती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *