किरंदुल बचेली के दरमियान मुक्तिधाम पांच मूर्ति के समीप स्थित जंगल में शरारती तत्वों द्वारा जंगल को किया आग के हवाले, जिम्मेदारो को नही हैं कोई ख़बर,आग में जल कर बेशुमार कीमती लकड़ी औसधि हुईं स्वाहा

Last Updated on

दंतेवाड़ा । किरंदुल बचेली के दरमियान मुक्तिधाम पांच मूर्ति के समीप स्थित जंगल में गुरूवार रात करीब 8:00 बजे आग लग गई ।बता दें कि एक ओर जहां वन विभाग जगह-जगह बोर्ड लगाकर वनों को आग से बचाने की हिदायत देता है ।वहीं दूसरी तरफ इस तरह की आगजनी की घटनाएं देखने को मिल रही है । वहीं इस तरह की घटनाएं अक्सर गर्मी के दिनों में आग असानी से देखा जा सकता है हालांकि आग किस कारण लगी यह पता नहीं चल पाया है । जिले भर के जंगलों में आग लगातार लग रही है लेकिन वन विभाग आग पर काबू पाने में सफल नहीं हो पा रहा है।बीते रविवार को किरंदुल बचेली के बीच 4 नम्बर कोडेनार वन विभाग ऑफिस से महज 5 सौ मीटर दूर जंगल में किसी शरारती तत्व द्वारा आग लगा दी गई। कुछ घंटों में आग 2 एकड़ से ज्यादा जगह में फैल गई। जिसके कारण लाखों का वनोपज जलकर खाक हो रहा है। जंगलों के बेतहाशा कटाई के बाद बड़े पैमाने पर आग लगने से जंगल के वजूद पर ही खतरा मंडरा रहा है।

प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर बैलाडीला की खूबसूरत पहाड़ी इस तरह के आग से वक्त रहते नहीं बचाया गया तो उसका वजूद ही खतरे में आ जाएगा। आग और अवैध कटाई से वनों के अस्तित्व की रक्षा करने में वन विभाग की नाकामी से लोगों में अब खासी नाराजगी देखने को मिल रही है।जिले में गर्मी के दस्तक के साथ ही जंगल में आग लगने का सिलसिला भी शुरू हो चुका है।आग से जंगलों को बचाने के सरकारी दावों से अलग जंगल में लगने वाली आग को बुझाना तो दूर वन विभाग को कई दिनों तक इसकी खबर तक नहीं लग पाती। कभी विभाग दावा करता है कि जंगल में लगी आग को बुझाने के लिए उसके सूचना आती है, पर इस सूचना के बाद जंगल में लगी आग को बुझाते तो विभाग को जिले में कहीं देखा नहीं गया है। जंगलों में इन दिनो चारों ओर आग लगी है, पर आग पर काबू पाने में वन विभाग व वन सुरक्षा समिति सफल नहीं हो पा रहे है।

इनका कहना है।

इस विषय में वन विभाग रेंजर ऑफिसर अशोक सोनवानी से बात की तो उन्होंने कहा कि मुक्तिधाम हमारे एरिया में नहीं आता है और पांच मूर्ति की जानकारी मुझे नहीं है मैं स्टाफ से जानकारी लेकर ही कुछ बता पाऊंगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *