हम लोगों में से प्रत्येक के भीतर एक स्वच्छता योद्धा मौजूद है: सद्गुरु

Last Updated on

नई दिल्ली : श्री सद्गुरु ने कहा है कि हम लोगों में से प्रत्येक के भीतर एक स्वच्छता योद्धा मौजूद है। उन्होंने कहा कि, “झाड़ू वह साधन नहीं है जो भारत को स्वच्छ करेगा। यह नागरिकों की सक्रिय भागीदारी है जो हमारे कस्बों और शहरों को स्वच्छ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी”। श्री सद्गुरु, आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा, ईशा फाउंडेशन के सहयोग से आयोजित एक लाइव वेबिनार को संबोधित कर रहे थे, जिसका विषय ‘स्वच्छता वारियर्स विद सद्गुरु इन चैलेंजिंग टाइम्स’ था। एक घंटे के वेबिनार में, सद्गुरु ने उज्जैन, सूरत, पूर्वी दिल्ली नगर निगम, आगरा और मदुरै के जिला कलेक्टरों/ नगर आयुक्तों के साथ बातचीत की और वर्तमान संकट का सामना करने के लिए शक्तिशाली अंतर्दृष्टि प्रदान की।

इस सत्र को कोविड के फ्रंटलाइन चैम्पियनों – सफ़ाई कर्मचारियों को समर्पित किया गया, जिसका संचालन श्री दुर्गा शंकर मिश्रा, सचिव, आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा किया गया और आध्यात्मिक गुरु ने स्वच्छता कर्मियों द्वारा उनके समक्ष रखे गए प्रश्नों के एक सेट का भी उत्तर दिया। इस सत्र का प्रसारण यूट्यूब (isha.co/MoHUAwithSadhguru) के माध्यम से लाइव किया गया था, जिसका साथ में हिंदी में भी अनुवाद किया गया जो कि (isha.co/MoHUAwithSadhguruinHindi) पर उपलब्ध है।

श्री सद्गुरु ने स्वच्छ भारत अभियान (एसबीएम) की महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार करने के साथ शुरुआत की, जिसके कारण देश के स्वच्छता स्तर में बहुत सुधार हुआ है, और उन्होनें विशेष रूप से स्वच्छता कर्मियों के प्रयासों का भी अभिवादन किया, जो कि पिछले पांच वर्षों में इस मिशन में सबसे आगे रहे हैं। शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) के प्रतिनिधियों और सफाईकर्मियों द्वारा पूछे गए प्रश्नों का जवाब देने के साथ-साथ, श्री सद्गुरु ने स्वच्छता योद्धाओं को प्रेरित करने के महत्व पर प्रकाश डाला, साथ ही उन्होंने स्वच्छता कर्मियों के लिए पर्याप्त व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) और वर्दी की उपलब्धता सुनिश्चित करने की बात कही जिससे उनके डर को दूर किया जा सके और उनमें नौकरी पर बने रहने की भावना विकसित की जा सके।

उन्होंने आगे कहा, “स्वच्छता, बताने की आवश्यकता नहीं है कि एक बड़ी चुनौती है। सूखे और गीले कचरे का पृथक्करण और प्रसंस्करण करने के साथ-साथ उद्योगों से निकलने वाले कचरे को उपचारित करने और घरेलू उद्योगों से निकले सीवेज का निस्तारण करने पर भी ध्यान देने की जरूरत है। इसके अलावा, शुष्क अपशिष्ट पृथक्करण को कुछ मायनों में प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है जिससे नागरिकों को इसे और ज्यादा उत्साह के साथ करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके”।

इस सत्र में, पूरे भारत के 4,300 से ज्यादा शहरी स्थानीय निकायों के हितधारकों की एक विस्तृत श्रृंखला ने हिस्सा लिया, जिसमें नगर आयुक्त, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, महापौर जैसे राजनीतिक प्रतिनिधि, स्वास्थ्यकर्मी, सफाई कर्मचारी, स्वयं सहायता समूह के सदस्य और फ्रंटलाइन कोविड चैंपियन शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *