मध्य प्रदेश विद्युत मंडल कर्मचारी सहकारी गैसभंडार मर्यादित चचाई में अनियमितता की हो जांच

अनूपपुर ,चचाई प्राप्त जानकारी के अनुसार चचाई में मध्य प्रदेश विद्युत मंडल कर्मचारी सहकारी भंडार मर्यादित संस्था द्वारा विगत 10 वर्षों से घरेलू गैस समिति का संचालन किया जा रहा है जिसमें विगत 10 वर्षों में समिति द्वारा भ्रष्टाचार एवं अनियमितता बढ़ती गई है समय-समय पर मजदूर संगठनों ने इस बाबत सक्षम अधिकारियों एवं विभागों को शिकायत भी की जिसके कारण उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं अनूपपुर द्वारा एंड सोनी के नेतृत्व में एक जांच टीम गठित की गई जो पिछले 2 सप्ताह से लगातार समिति के गैस गोदाम एवं कार्यालय में जांच कर रही है सूत्रों के अनुसार प्रथम दृष्टया काफी गड़बड़ी पाई गई है दायरे में मुख्य रूप से समिति के अध्यक्ष बिसाहू लाल साहू कोषाध्यक्ष सुरेश पाटिल एवं सचिव विजय गोरे हैं बताया जाता है कि अनूपपुर द्वारा सहकारी समिति के संचालन हेतु अनुज कुमार उदार को प्रशासक नियुक्त किया गया है अनुज ने संस्था के दायित्व निर्वाहन हेतु तापस कुमार शुक्ला को स्थाई तौर पर प्रभारी प्रबंधक नियुक्त किया है जबकि विडंबना यह है कि संस्था में तापस नाम का कोई कर्मचारी ही नहीं है तापस शुक्ला जी समिति का प्रबंधक बनाया गया है वह समिति के किस पद पर है और उन्हें कहां से वेतन दिया जाता है इस बात का संस्था में कोई प्रमाण नहीं है जो की जांच का विषय है जिला अंकेक्षण अधिकारी डीके कुवैती द्वारा वर्ष 2016-17 में ऑडिट किया गया एवं संस्था में भारी वित्तीय अनियमितता पाई गई जिसमें नियमों का उल्लंघन पाया गया बताया जाता है कि ग्राहकों द्वारा अपने साधन से परिवहन कर ले जाए गैस सिलेंडर के परिवहन का पैसा नियमित ग्राहक को दिया जाना चाहिए किंतु यह राशि ग्रह को को ना देकर संस्था के संचालकों द्वारा स्वयं के जेब में डाली गई प्रमाण के रूप में उस रजिस्टर के कुछ पन्नों की छाया प्रति संलग्न है जिसमें हस्ताक्षर कर स्वयं के साधन से सिलेंडर का परिवहन किया गया है कार्यवाही रजिस्टर में संस्था के द्वारा करवाए गए कार्यों एवं समान खरीदी के लिए सदस्यों की सहमति से स्वीकृत की गई राशि से खरीदे गए सामान एवं किए गए काम का भौतिक सत्यापन कभी भी समिति के सदस्यों से नहीं करवाया गया और तो और पिछले 4 सालों से एक भी आम सभा आहूत नहीं की गई जबकि हर वर्ष आमसभा होनी चाहिए अध्यक्ष द्वारा अगस्त 2017 में सेवानिवृत्त होने के बाद भी पद रिक्त नहीं किया गया एवं नाही सदस्यों से कार्यकाल पूर्ण करने के लिए अनुमति ली गई जबकि पूर्व में सभी सदस्यों की अनुमति लेकर पूर्व अध्यक्ष ब्रिज बिहारी सिंह द्वारा अपना कार्यकाल पूर्ण किया गया था 4 मई 2021 को समिति द्वारा शुभम द्विवेदी की नियुक्ति मकैनिक के पद पर की गई जबकि समिति का कार्यकाल 16 फरवरी 2021 को समाप्त हो गया था इस प्रकार यह नियुक्ति पूर्णता अवैधानिक एवं नियम विरुद्ध है कोषाध्यक्ष द्वारा संस्था के सभी पदों का कार्य किया गया जैसे अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष का भी कार्य किया गया नए कनेक्शन एवं ट्रांसफर वाउचर में हस्ताक्षर करना जबकि अध्यक्ष का कार्य है सामान खरीदी के कार्य में कर्मचारियों से कोरे बाउचर में हस्ताक्षर लेना यह सभी कार्य कोषाध्यक्ष द्वारा किए गए जाते थे सिलेंडर परिवहन में लगे कर्मचारियों को कम वेतन देकर अधिक राशि का आहरण किया जाता है कंप्यूटर ऑपरेटर सलीम को 6000 देकर 10000 के बिल वाउचर में हस्ताक्षर लिया जाता है इस बात की तस्दीक कंप्यूटर ऑपरेटर सलीम से की जा सकती है इन सभी बिंदुओं की यदि निष्पक्षता से जांच की जाए तो दोषियों पर नकेल कसी जा सकती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *